SEARCH ON GOOGLE

ब्रिकी विलेख के पंजीकरण के दौरान दोनों पक्षों का उपस्थित रहना जरूरी नहीं है | Procedure for Registration of Sale Deed

Download link
New order pass on register sale deed 2020
Sale deed law order




ब्रिकी विलेख के पंजीकरण के दौरान दोनों पक्षों का उपस्थित रहना जरूरी नहीं है | Procedure for Registration of Sale Deed


सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि पंजीकरण अधिनियम, 1908 की धारा 32 (Registration Act, 1908) के तहत ब्रिकी विलेख (Sales deed) के पंजीकरण के दौरान दोनों पक्षों का उपस्थित रहना जरूरी नहीं है।



Diary Number4418-2009JudgmentCase NumberC.A. No.-003975-003975 - 2010
Petitioner NameH.P.PUTTASWAMYRespondent NameTHIMMAMMAPetitioner's AdvocateV. N. RAGHUPATHYRespondent's AdvocateBenchHON'BLE MR. JUSTICE DEEPAK GUPTA, HON'BLE MR. JUSTICE ANIRUDDHA BOSEJudgment ByHON'BLE MR. JUSTICE DEEPAK GUPTA



हालांकि, गौरतलब है कि राज्यों द्वारा बनाये गये नियमों के तहत क्रेता और विक्रेता दोनों की उपस्थिति जरूरी हो सकती है। इस मामले में, ट्रायल कोर्ट ने वादी (Petitioner) द्वारा दायर मुकदमे पर इस आधार पर हुक्मनामा दिया कि बिक्री विलेख (Sales deed)के पंजीकरण के समय क्रेता वहां मौजूद नहीं था।

हाईकोर्ट ने व्यवस्था दी थी कि पंजीकरण अधिनियम (Registration Act, 1908) की संबंधित धाराओं को संयुक्त रूप से पढ़ने पर यह स्पष्ट होता है कि जब सब-रजिस्ट्रार के समक्ष पंजीकरण के लिए दस्तावेज पेश किया जाता है तो क्रेता का वहां उपस्थित रहना जरूरी नहीं होता।

न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति अनिरुद्ध बोस ने कहा कि बिक्री विलेख (Procedure for Registration of Sale Deed) के पंजीकरण के वक्त सब-रजिस्ट्रार के कार्यालय में दूसरा प्रतिवादी मौजूद नहीं था।

कोर्ट ने कहा :

"लेकिन कानून के अनुसार, बिक्री विलेख (Procedure for Registration of Sale Deed) के पंजीकरण के दौरान पंजीकरण कार्यालय में क्रेता की मौजूदगी आवश्यक नहीं थी। बिक्रीनामा(Sales deed) पर हस्ताक्षर माडेगौडा ने किया था और इस पहलू पर कोई विवाद नहीं खड़ा किया गया है। जिस बिक्रीनामा (Sales deed) पर सवाल खड़ा किया जा रहा है वह पंजीकरण अधिनियम (Registration Act, 1908) की धारा 31, 88 और 89 के तहत नहीं आता। इस कानून की धारा 32 कहती है कि बिक्री विलेख पंजीकरण के दौरान दोनों पक्षों का उपस्थित रहना जरूरी नहीं है।"




Post a Comment

0 Comments